हज़रत इमाम हुसैन के रौज़े के अहाते की तौसी

इमाम हुसैनआ स का रोज़ा आलमी मक़बूलियत का है हामिल .
आप को मालूम है की रोज़ाये इमाम हुसैन आ स पे सारी दुनया से लोग आते है. 
यहाँ ना मज़हब की क़ैद है ना नस्ल की ना रंग की. 
शायद ही कोई ऐसी जगह हो जहा से ज़ायरीन ना आते हो. 
हर साल यहाँ 3 करोड़ से ज़्यादा ज़ाएरीन यहाँ आते है. और रोज़ाये इमाम हुसैन आ  स और रोज़ाये अबुल फ़ज़्लिल अब्बास की ज़्यारत करते है और इन तादाद मे इज़ाफ़ा ही हो रहा है. 
इसी के पैशे नज़र तौसी का काम जल्दी शुरू हो गा. 
इस  मंसूबे के तहत इक करोड़ ज़ायरीन का गुंजाइश पैदा की जाएगी. 
इमाम हुसैन फाउंडेशन के सीनियर बोर्ड मिम्बर ने कहा की ये तौसियी मंसूबा 6 साल मे मुकम्मल हो जाएगा. इराक हुकूमत ने इस तौसियी के पैशे नज़र सहूलियत भी फ़राहम करएगी .जिसमे ज़ाएरीन को कोई परेशानी ना हो. 
इमाम हुसैन फाउंडेशन ने रौज़े रौज़े के अहाते मे तिब्बी इमदाद के लिए इक बड़ा हॉस्पिटल भी क़ायम किया जाएगा जहा दुनया भर से आने वाले मरीज़ो का मुफ्त इलाज होगा. और कैंसर के मरीज़ो का भी इलाज किया जाएगा. 

Post a Comment

Previous Post Next Post