पांचवे रमज़ान की दुआ

ये अल्ल्हा मुझे इस दिन इस्तगफार वालो मे क़रार दे.
मुझे इस दिन अपने नैक व सालेह और इताअत वालो मे शुमार क़रार दे. ये अल्ल्हा मुझे इस और माह मे अपने मुक़र्रब दोस्तो मे क़रार दे.
अपनी मेहरबानी से सब से ज़्यादा रहम करने वाले

2 Comments

  1. 5th dua me isteghfar ki jagah isteqamat likha hai

    ReplyDelete
  2. Bhai oh tarjuma tha tipe krne me ho gaya.. asl madda dua hai jo sahi hai

    ReplyDelete
Previous Post Next Post