कमल नाथ सरकार ने मॉबलिंचिंग के खिलाफ सख्त क़ानून बनाने की पहल




जैसा की अभी झारखण्ड  मे फैसल अंसारी को चोरी के इलज़ाम मे भीड़ ने बड़ी मेरहमी से क़त्ल कर दिया जिसकी चारो तरफ मज़म्मत हो रही है और ये सिलसिला खत्म ही नहीं हो रहा है ऐसे वाक़ियात आये दिन देखने को मिलते है... जब की इसे घोरजुर्म के लिए सख्त क़ानून बनाना चाहिये मगर अभी तक कोई क़ानून अमल मे नहीं आया है.....
आप को मालूम होना चाहिये की फैसल अंसारी  मामले मे अब तक जिनकी गिरफ़्तारी हुई है उनमे से ज़्यादातर 10 क्लास के स्टूडेंट है और इनमे वह मज़दूर है जो रोज़ कमाते और खाते है....इसमें किसान और रेलवे के गैंगमैन भी शामिल है.
इससे ये पता चलता है की आज की मानसिकता कितनी बदल गई है.... और हमारा भविष्य क्या होगा...
ऐसे वक़्त मे मध्प्रदेश के c m कमल नाथ ने एक ऐसे क़ानून मानाने की पहल की है जिससे इस मसले को काफ़ी हद तक रोका जा सकता है.. जिसमे 5 साल से लेकर 10 साल तक की जेल और 25 हज़ार से 50 हज़ार तक का जुर्माना शामिल है...
ये क़ानून अगर अमल मे आ गया तो इससे मॉबलिंचिंग  की घटनाये ज़रूर थमेंगी..
मगर आज की ये घटनाओ मे मूल रूप से बेरोज़गारी भी शामिल है और हमारी माननसिकता की बिमारी भी... 

Post a Comment

Previous Post Next Post