तुर्की ने हज़ारों सीरियाई अर्धसैनिकों को लीबिया भेजा हैः फ्रांस

 



फ्रांस के विदेशमंत्री ने कहा है कि अंकारा और पेरिस के मध्य जो वाक्य युद्ध चल रहा था उसमें युद्धविराम हो गया है परंतु दोनों देशों के मध्य जो मतभेद हैं उन्हें दूर करने की ज़रूरत है।

फ्रांस के विदेशमंत्री जान यवेस ले द्रियान ने एक साक्षात्कार में कहा कि पिछले सप्ताह नैटो के नेताओं की शिखर बैठक के अवसर पर फ्रांसीसी राष्ट्रपति एमानोएल मैक्रां और तुर्क राष्ट्रपति रजब तय्यब अर्दोग़ान के बीच जो मुलाक़ात हुई थी उससे दोनों देशों के बीच वार्ता की जो शैली व अंदाज़ था वह परिवर्तित हो गया परंतु मतभेदों को दूर किये जाने के संबंध में गम्भीर क़दम उठाये जाने की ज़रूरत है।

फ्रांस के विदेशमंत्री ने सीरिया, लीबिया और पूर्वी भूमध्य सागर के बारे में दोनों देशों के बीच मौजूद मतभेदों की ओर संकेत किया और कहा कि यह वाक्ययुद्ध का एक प्रकार का संघर्षविराम है, यह अच्छी बात है, परंतु काफी नहीं है, शाब्दिक युद्ध विराम का अर्थ अमल नहीं है और हमें तुर्की से अपेक्षा है कि वह संवेदनशील विषयों के बारे में व्यवहारिक रूप से कदम उठायेगा।

उन्होंने आगे कहा कि तुर्की ने जो हज़ारों सीरियाई अर्धसैनिकों को लीबिया भेजा है फ्रांस उसके बारे में तुर्की से सहयोग करने के लिए तैयार है।

गत सोमवार को मैक्रां और अर्दोग़ान के बीच होने वाली वार्ता लगभग 52 मिनट तक चली थी जिसमें दोनों पक्षों ने सीरिया, लीबिया और क्षेत्रीय मामलों व मतभेदों सहित परस्पर रूचि के द्विपक्षीय मुद्दों के बारे में विचारों का आदान- प्रदान किया था।

Post a Comment

Previous Post Next Post