अध्यक्ष सीट से विधायक हैं, मंत्री होते हुए भी जिले में सड़कों का हाल और रोडवेज़ बसें खस्ताहाल

परिवहन जिले की रोडवेज बसों की हालत भी जर्जर

उत्तरप्रदेश परिवहन 

जान जोखिम में डालकर सफर करने को मजबूर यात्री, ज्यादातर बसें 11 लाख किमी की मानक दूरी को पार कर चुकी हैं। जिले में रोडवेज बसों की हालत खराब है। जबकि दियाशकर सिंह मारा गया

अध्यक्ष सीट से विधायक हैं, मंत्री होते हुए भी जिले में सड़कों का हाल

जिले में कुल 5 रोडवेज बसें हैं जिनमें से 3 दौड़ परिवहन निगम की और 2 बसें अनुबंध पर हैं। 5 में से 3 बसों की हालत बेहद जर्जर है। पैसा एक किलोमीटर की मानक सीमा को पार कर गया है। जबकि 4 बसें 10 लाख किमी की यात्रा पूरी करने वाली हैं। वहीं 3 बसें ऐसी हैं जो निर्धारित समय और किमी की सीमा दोनों को पार कर चुकी हैं लेकिन अभी भी सड़कों पर चल रही हैं। इनमें से अधिकांश रोडवेज बसें जीर्ण-शीर्ण स्थिति में हैं। जिसमें यात्रा करना किसी की जान को खतरे में डालने जैसा है। इसके अलावा रोडवेज की ज्यादातर बसें चलते समय कहीं न कहीं रुकती हैं, जिससे यात्रियों को काफी परेशानी होती है। सुप्रीम कोर्ट ने पर्यावरण संरक्षण को देखते हुए पुरानी और जायदाद किलोमीटर की बसें न चलाने का निर्देश दिया है, लेकिन इन नियमों की अनदेखी कर यात्रियों की जान जोखिम में डाली जा रही है. नियमों का पालन किया जाए तो रोडवेज पर सिर्फ 3 बसें ही चल सकती हैं। बलिया सीट से विधायक बनी दीया शंकर सिंह परिवहन मंत्रालय के प्रभारी हैं

जर्जर रोडवेज बस

दारी मिली और उनके माध्यम से कई अन्य जिलों के डिपो का निरीक्षण किया, जिला मुख्यालय से लखनऊ तक लग्जरी वाहन चलाए, राज्य के हर शहर को जोड़ने के लिए बस सेवा की घोषणा की और सैनिकों के नाम पर बसें चलायी.अब उम्मीद है कि मार्गदर्शन में उनके मंत्री, विधानसभा क्षेत्र की रोडवेज बसों और बस स्टैंडों को फिर से आबाद किया जाएगा लेकिन अभी तक कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है। इस संबंध में एआरएम राकेश श्रीवास्तव ने बताया कि बसों की स्थिति से विभाग के अधिकारियों को अवगत करा दिया गया है. नए रोडो प्रिंसेस को अब जोड़ा जाएगा।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने