छात्रवृत्ति घोटाले ने बढ़ाई भाजपा नेता की मुश्किलें

छात्रवृत्ति घोटाले ने बढ़ाई भाजपा नेता की मुश्किलें

अलीगढ़
 नेता व पूर्व ब्लॉक पार लखकीर सिंह व उनके भाई आदि के छात्रवृत्ति परिवार से जुड़े मामले में मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. कोर्ट के आदेश पर दर्ज मामले में पुलिस द्वारा राजनीतिक प्रभाव में दाखिल की गई फाइनल रिपोर्ट को खारिज कर दिया गया था, अब इस मामले में दोबारा जांच के आदेश दिए गए हैं. इस संबंध में आम आदमी पार्टी के पूर्व महानगर कमल सिंह 11 2010 से लगातार आवाज उठा रहे हैं जिसमें भाजपा नेता कबीर सिंह और उनके भाई साहिब सिंह पर उन्हीं के स्कूल में छात्रवृत्ति घोटाले का आरोप है. आरटीआई के तहत मिले जवाबों के आधार पर प्रशासन से शिकायत की गई लेकिन शिकायतों पर कोई फैसला नहीं हुआ, नतीजा यह हुआ कि कमल सिंह ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया. वहीं, स्कूल के प्रिंसिपल का इस्तीफा एक बड़ा सबूत बना, जिन्होंने घोटाले को देखते हुए इस्तीफा दे दिया था. इन सबूतों के आधार पर कोर्ट ने ट्रायल का आदेश दिया, जिसके आधार पर सिविल लाइंस थाने में 2018 में केस दर्ज किया गया था, लेकिन पुलिस ने पुराने मामले के आधार पर फाइनल रिपोर्ट दाखिल करते हुए कहा कि इन आरोपों पर केस हो चुके हैं. पहले, लेकिन अब कोर्ट ने आकर फॉलोअप के आधार पर फाइनल रिपोर्ट को खारिज कर दिया और पुलिस को फिर से जांच करने का आदेश दिया. यह आदेश आह जैमे 2 की अदालत ने दिया है।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने